अपने मन को कंट्रोल करना सीखें – दिमाग को शांत कैसे करें?

अपने मन को कंट्रोल करना सीखें इससे पहले, कि आपका मन आपको कंट्रोल करने लग जाए।

 एक छोटी सी कहानी
| मेरिका में एक बार एक बड़ा खूंखार अपराधी था ऐसा क्रिमिनल  जिसके पीछे वहां की पुलिस पड़ी हुई थी एजेंसीज पड़ी हुई थी लेकिन वह पकड़ में नहीं आ रहा था एक दो बार पकड़ में  आया लेकिन फिर से वो भाग गया अब क्या किया जाए तो वहां के जो ऑफिशल्स थे उन्होंने एक टॉप कॉप यानी कि पुलिस के सबसे शानदार अधिकारी को  जिम्मा सौंपा कि अब जाइए और जाकर इनको पकड़िए मैं सिर्फ  यही प्रोजेक्ट दिया गया कि अब आपको बस यही क्रिमिनल को पकड़ कर लाना है

अपने-मन-को-कंट्रोल-करो
अपने मन को कंट्रोल करो

aaaa

उन्होंने  सारी स्ट्रैटेजी बनाई  उस क्रिमिनल को पकड़ा गया जेल में डाला गया जेल के बाद उसे कोर्ट ले जाया गया कोट के सामने प्रस्तुत किया एक लंबी कार्यवाही चली और फाइनली जज साहब ने अपना फैसला सुनाया उन्होंने बताया ये जो अपराधी है इसने इतने बुरे बुरे काम किए हैं अपनी जिंदगी में कि अब इसको मौत का सजा सुनाने का अलावा अब कोई चारा नहीं बचता है अब इसको यही सजा है कि जल्द से जल्द इसे फांसी की सजा दी जाए इसे जल्द से जल्द फांसी की सजा दे दी जाए अब जो उसकी फांसी की सजा थी

अपने-मन-को-कंट्रोल-करो
अपने मन को कंट्रोल करो

 अब यह न्यूज़ अखबारों में छप गई लोग बड़े खुश हुए बोलते हैं कि भाई बुरा काम किया है तो सजा मिल रही है बुरा काम का यही नतीजा होता है इसको बुरा रिजल्ट मिलना ही था इसमें कोई सोचने वाली बात नहीं है लेकिन जो अमेरिका के साइंटिस्ट थे उन्होंने यह सोचा कि भाई जो ये क्रिमिनल है जब इसको ऊपर ही जाना है या की मरने  वाला है यानी इस दुनिया को छोड़कर जाने वाला है इसको मौत मिलने वाली है तो क्यों ना इसके ऊपर एक छोटा सा एक्सपेरिमेंट किया जाए साइंटिस्ट जो थे उन्होंने परमिशन ली जेल में पहुंचे जा करके उस क्रिमिनल से मुलाकात की और उससे बताया कि आप पर एक छोटा सा एक्सपेरिमेंट करना चाहते हैं

वैसे भी आप को मौत की सजा सुनाई गई है आपको जाना है इस दुनिया से जाने से पहले हम आप को फांसी की सजा नहीं देंगे बल्कि एक जहरीले सांप से कोबरा से डस वाएंगे उसके बाद आप की मौत हो जाएगी उसमें कोई घबराने वाली बात नहीं है उसको ऐसा थोड़ा समझाया गया तो उसने कहा अब तो मुझे जाना ही है तो कोई ऑप्शन तो है नहीं तू जो है वो ठीक है साइंटिस्ट वहां से चले गए मीटिंग करके जो यह बंदा था पूरी रात सोचता रहा कल क्या होने वाला है सांप आएगा मुझे डसेगा उसकी जिंदगी में आज तक एक्सपीरियंस नहीं किया था

फिर उसे लगा कि उसने अपनी जिंदगी में ऐसे बड़े-बड़े काम कर दी है कि जो अब इतने बड़े काम हो ही गए हैं  अब तो इससे बुरा काम हो ही नहीं सकता है यही शायद ऊपर वाले ने मेरे लिए लिखा होगा यही सोचकर वह फाइनली एक-दो घंटे रात में वह सो गया अगले दिन जो सुबह हुई वह टाइम डिसाइड था साइंटिस्ट लोग आए जो डिसाइड किया हुआ था साइंटिस्ट ने  उन्होंने एक रूम लेकर के गए उसे एक चेयर पर बैठाया गया जो बंदा था बहुत ही घबराने लगा कि क्या होने वाला है सांप को ले करके आएंगे कि तभी उस लड़के के आंखों पर पट्टी बांधी गई और 

साइंटिस्ट जो थे उसके पास आ गए जहरीला सांप जिसका नाम कोबरा बताया गया था उससे इसे डस वाया नहीं गया बल्कि दो छोटी-छोटी सेफ्टीपिन इसे चूभ हुई गई और कुछ सेकेंड में ही इस बंदे इस क्रिमिनल की मौत हो गई इसके बाद जब पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई  तब मालूम चला के इस क्रिमिनल की बॉडी में उतना ही जहर था जितना कि एक कोबरा के काटने पर होता है सभी साइंटिस्ट हैरान हो गए कि इस बंदे के शरीर में कोबरा का जहर आया तो आया कहां से उस बंदे के शरीर में वह जहर खुद ही पैदा किया क्योंकि इस बंदे ने बॉडी में वो जहर इसलिए आया कि क्योंकि इसके दिमाग में नेगेटिव थॉट चल रहे थे इसे लग रहा था कि इससे सांप काट चुका है लेकिन सिर्फ इसे दो छोटी-छोटी सेफ्टीपिन चूभ हो ही गई थी |

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि 
हमारी जिंदगी में बड़ी बीमारियां तो बस इस बात से है क्योंकि हम उलटा सोचते हैं नेगेटिव सोचते हैं इसका नियमों में यह पता चला कि हमें अपनी सोच पॉजिटिव रखना चाहिए अगर सोच पॉजिटिव रहेगी तो हम अपने जीवन में कमाल कर पाएंगे 

। धन्यवाद।

यदि आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी तो आप अन्य पोस्ट जरूर पढ़ें  अपने तमाम दोस्तों में इसे शेयर करें।
RELATED ARTICLES