जनता कर्फ्यू 22nd March: जानें कोरोना वायरस से बचने के लिए जनता कर्फ्यू क्या है, और क्या न करें

जनता कर्फ्यू 22nd March: जानें कोरोना वायरस से बचने के लिए जनता कर्फ्यू  क्या है, और क्या न करें

जनता कर्फ्यू क्या है

हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने कहा देशवासी से मैं और समर्थन मांग रहा हूं यह है जनता कर्फ्यू जनता कर्फ्यू यानी जनता के लिए जनता द्वारा खुद पर लगाया गया कर्फ्यू इस रविवार जाने 1 दिन के बाद यानी 22 मार्च रविवार को सुबह 7:00 बजे से रात 9:00 बजे तक सभी देशवासियों को जनता कर्फ्यू का पालन करना है |

Janta Curfew 22nd March: जानें कोरोना वायरस से बचने के लिए जनता कर्फ्यू के दिन क्या करें, और क्या न करें

जनता कर्फ्यू 22nd March: जानें कोरोना वायरस से बचने के लिए जनता कर्फ्यू  क्या है, और क्या न करें
यह जनता कर्फ्यू के दरमियान कोई भी नागरिक घरों से बाहर ना निकले ना सड़क पर जाए ना मोहल्ले में या सोसाइटी में एकत्रित हो अपने घरों में और हां जो आवश्यक सेवाओं से जुड़े हुए हैं उनको तो जाना ही पड़ेगा क्योंकि उनका बहुत बड़ा दायित्व होता है| 

लेकिन एक नागरिक के नाते इस बार हमारा यह प्रयास में संयम देश हित में कर्तव्य पालन संकल्प का एक मजबूत अधिक होगा| 22 मार्च कोजनता कर्फ्यू की सफलता के अनुभव हमें आने वाली चुनौतियों के लिए भी तैयार करेगी | 

उन्होंने कहा मैं देश की सभी राज्य सरकारों से भी आग्रह करूंगा जनता कर्फ्यू का पालन करवाने का नेतृत्व करें उन्होंने कहा हमारे देश में कई संगठन जैसे एनसीसी एनएसएस कई युवा संगठन है सेवा समिति है और भी बहुत प्रकार के संगठन है जैसे धार्मिक संगठन है सामाजिक संगठन है | 

सब से अनुरोध करता हूं  कि 22 मार्च रविवार तक इस जनता कृतियों का संदेश लोगों तक पहुंचाएं लोगों को जागरूक करें देश के हर कोने कोने तक  यह बात पहुंचाने चाहिए हर घर से 10 लोगों को फोन करके आप इस महामारी से बचा सकते हैं | 

 उन्हें जनता कर्फ्यू की बात बताएं और उन्हें समझाएं कि जनता कर्फ्यू के बारे मैं बताएं अपने सारे संगठनों से कि वह प्रत्येक 10 व्यक्ति को कॉल करें या कैसे भी करके सूचित करें और उन्हें जनता कर्फ्यू के बारे में अवगत कराएं।

जनता कर्फ्यू 22nd March: जानें कोरोना वायरस से बचने के लिए जनता कर्फ्यू  क्या है, और क्या न करें

विश्व युद्ध के समय भी इतने देश प्रभावित नहीं हुए जितना कि आज कोरोनावायरस से हैं

उन्होंने बोला कि कि हमारा पूरा विश्व इस समय संकट के बहुत बड़े गंभीर दौर से गुजर रहा है आमतौर पर कभी कोई  प्राकृतिक संगठन आता है तो वह कुछ देश तक ही सीमित रहता है लेकिन इस बार यह संगठन ऐसा है जिसने पूरे विश्व को उत्तर पूरे मानव जाति को संकट में डाल दिया है|
 जब प्रथम विश्व युद्ध हुआ था और जब द्वितीय विश्व युद्ध हुआ था तब भी इतने देश युद्ध से प्रभावित नहीं हुए थे जितने आज कोरोना की इस बीमारी से पिछले 2 महीने से हम निरंतर दुनिया भर से आ रहे कोरोना वायरस से जुड़ी चिंताजनक खबरें देख रहे हैं और सुन रहे हैं|

 इन 2 महीनों में भारत के 130 करोड़ नागरिकों ने कोरोना जैसी वैश्विक महामारी का डटकर मुकाबला किया है सभी देशवासियों ने आवश्यक सावधानियां बरतने का भरपूर प्रयास भी किया है लेकिन बीते कुछ दिनों से ऐसा माहौल बन रहा है ऐसा लग रहा है जैसा हम संकट से बचे हुए हैं ऐसा लगता है कि सब ठीक है वैश्विक महामारी को रोना से निश्चिंत हो जाने की सोच सही नहीं है इसलिए प्रत्येक भारतवासी का  सतर्क रहना बहुत ज्यादा आवश्यक है

जनता कर्फ्यू 22nd March: जानें कोरोना वायरस से बचने के लिए जनता कर्फ्यू  क्या है, और क्या न करें

जनता कर्फ्यू को क्यों लगाया गया है

जैसा कि हम जानते हैं  चीन के बुहान शहर से आया हुआ एक वायरस जिसका नाम है कोरोना वायरस यह पूरे देश में विख्यात हो गया है और यह लोगों को बीमार कर रहा है और इसी सब को मध्य नजर रखते हुए हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने एक जनता कर्फ्यू लगाया है जनता कर्फ्यू इसलिए लगाया गया है क्योंकि हम कोरोना वायरस से  बचा जा सके। 

जनता कर्फ्यू से कोरोना वायरस होगा खत्म

हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू की अपील की है लेकिन कुछ लोगों का कहना है कि सिर्फ 1 दिन से क्या होगा जनता कर फिर से कौन सा कोरोना वायरस खत्म हो जाएगा? 
1  जो लोग जनता कर्फ्यू और कोरोना वायरस को मजाक समझ रहे हैं इसे सीरियस नहीं ले रहे हैं क्या उन्हें याद है कि उनकी लाइफ में ऐसा कभी हुआ हो कि देश के स्कूल कॉलेज, सिनेमा हॉल, जिम, थिएटर, एयरपोर्ट, मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारों के दर्शन और सदियों से चले आ रहे हैं हमारे मेले जुलूस एक ही झटके में बंद कर दिए गए हैं अरे हमें कृपया करके ऐसे इसे सीरियस ले इसे मजाक ना बनाए

2  चीन से शुरू हुए कोरोना वायरस विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वैश्विक महामारी घोषित कर दिया है जो विशब युद्ध से भी अधिक खतरनाक है क्योंकि यह कोरोना वायरस तेजी से फैलता है और इसके निश्चित एंटीडोर भी नहीं है जब दवाई ही नहीं है तो इलाज कैसे हो अतः बचाव ही इसका इलाज और उपाय है ।

3  प्रधानमंत्री जी ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के लिए इसलिए कहा है कि कोरोना वायरस खांसी जुकाम बुखार ठीक आदि के संक्रमण से तेजी से फैलता है अर्थात लोग एक दूसरे के संकट में नहीं आना चाहिए |

 4. समानता कोरोनावायरस बिना संपर्क 9 से 12 घंटे के बाद अपना प्रभाव होने लगता है इसलिए 22 मार्च और संडे को जनता कर्फ्यू से पूरे दिन लोगों का संकल्प रुकेगा और उसके बाद रात में 100 लोगों के सोने से पहले पूरे 24 घंटे तक इसका असर खत्म हो जाएगा जिससे कोरोना वायरस को फैलने से रोका जा सकता है|

5.  और जरूरी हुआ तो आगे भी जनता कर्फ्यू लगाया जा सकता है क्योंकि दोस्तों जब संपर्क ही नहीं होगा तो फिर कोरोना वायरस कैसे फेलेगा तो यह बहुत ही अच्छा कदम है श्री नरेंद्र मोदी जी का और हमें दोस्तों 22 मार्च को जनता कर्फ्यू को सफल बनाने में पूरा सहयोग देना है इस को सफल बनाएं सेफ रहें सुरक्षित रहें।

जनता कर्फ्यू 22nd March: जानें कोरोना वायरस से बचने के लिए जनता कर्फ्यू  क्या है, और क्या न करें
22 मार्च को यह गलती भूलकर भी ना करें

दोस्तों इस दिन अपना टाइम वेस्ट ना करें आपने सही सुना इस दिन आप अपना टाइम वेस्ट ना करें बल्कि इस दिन आप वह जरूरी काम करें जिसके लिए आपको टाइम नहीं मिल पाता दोस्तों आपने दो दोस्तों के नाम सुने होंगे जीने की राह और ज्ञान गंगा जी हां दो पुस्तकें जीने की राह और ज्ञान गंगा यह पुस्तकें 10 करोड़ घरों में पहुंच चुके हैं 

लेकिन  यह पुस्तकें दी गई है  जिनसे यह पूछा जाता है कि आपने यह पुस्तकें पढ़ी तो काफी लोगों का यह कहना होता है कि नहीं पढ़ पाया टाइम नहीं मिला ज्यादातर लोग यही कहते हैं कि टाइम नहीं मिला या कुछ लोग यह बोलते हैं कि टाइम कम मिलता तो कुछ ही पढ़ पाया हूं तो दोस्तों अब चाहे कुछ भी कहो लेकिन 22 मार्च को आपको पूरा दिन मिलना पड़ता है 

तो इस दिन को आप बिल्कुल भी वेस्ट करने की गलती ना करें हो सकता है आप इस बुक के विरोधी भी हो तो भी मैं आपसे कहूंगा कि इस पुस्तक को पूरा पढ़ा लो 22 मार्च को इस पुस्तक को पूरा लो इस पुस्तक की गलती और कमियां निकालने को पूरा पढ़ा लो बेशक इस पुस्तक की गलतियां निकाल दो या फिर जिन्होंने आपको पुस्तक दिया और आपको गलतियां मिलती है तो आप उन्हें गलतियां बता दो 

इस पुस्तक पढ़ते पढ़ते लाखों लोगों के घर भी बस गए कैसे आप लोगों को विश्वास नहीं होगा जिन घरों में पति-पत्नी का झगड़ा रहता था वह इन पुस्तकों पर प्यार से रहते हैं उनका धन्यवाद करते हैं जिस लोगों को कैंसर था जिनको अन्य किसी भयंकर बीमारी ने जकड़ रखा था उनकी अनेक बीमारी ठीक हो गई

 ऐसे लोगों को अगर आपको देखना है तो  आप देख सकते हैं तो दोस्तों बस हम यही कहना चाहते हैं कि 22 मार्च को आप बेस्ट ना जाने दें आप अपना जरूरी काम करें लेकिन आप अपने घर में ही रहकर करें आप बाहर न जाएं ।

जनता कर्फ्यू 22nd March: जानें कोरोना वायरस से बचने के लिए जनता कर्फ्यू  क्या है, और क्या न करें

जनता कर्फ्यू के दौरान हमें किन किन बातों का ध्यान रखना है

1.रविवार शाम 5:00 बजे 5 मिनट थाली थाली या घंटी बजाकर खतरे के बीच काम करने वाले डॉक्टर नर्स स्टाफ सफाई कर्मी का हौसला बढ़ाएं और उनको सम्मानित करें
2. ध्यान दें 60 – 65 साल के बुजुर्ग कुछ हफ्ते के लिए घर के अंदर ही रहे
3.अधिकतर व्यक्ति जरूरत ना पड़ने पर रूटीन चेकअप के लिए अस्पताल जाने से बचे जरूरी ना होने पर सर्जरी की तारीख आगे बढ़ाएं दबाव ना बढ़ाएं ताकि डॉक्टर को रोना को प्राथमिकता दे सके
4.उच्च आय वर्ग जिनसे सेवाएं लेता है उनके आर्थिक हितों का ध्यान रखें आने वाले दिनों में वे दफ्तर ना आए तो उनका वेतन ना काटे क्योंकि उन्हें भी अपना परिवार चलाना होता है
5. जरूरी चीजों की कमी नहीं होगी तो इन्हें बेवजह इकट्ठा ना करें

जनता कर्फ्यू के दौरान / क्या करना है और क्या नहीं 
1. सबको अपने – अपने घर पर ही रहना
2. किसी को भी अपने घरों से बाहर नहीं निकलना है
3. अपने घर से कभी बाहर निकले जब काम बहुत ज्यादा जरूरी हो

RELATED ARTICLES