तुलसी का इस्तेमाल करके बीमारी दूर रखें, तुलसी का पौधा घर में रखने के फायदे

Keep-the-disease-away-using-basil-Benefit-to-keep-basil-plant-in-the-house

बदलते मौसम में स्किन से संबंधित बीमारियां बेहद परेशान करती हैं। इस मौसम में स्किन पर खुजली, मुहांसों की समस्या काफी होती है। चेहरे पर आने वाला पसीना और ऑयल चेहरे पर खुजली और मुहांसों को बढ़ा देता है।

इस मौसम में स्किन इन्फेक्शन का खतरा भी ज्यादा रहता है। बदलते मौसम में स्किन की समस्याओं से बचने के लिए तुलसी का पैक बेहद असरदार साबित होता है।

तुलसी का पौधा आमतौर पर सभी घरों में मौजूद होता है। औषधीय गुणों से भरपूर तुलसी पोषक तत्वों से भरपूर होती है जिसका इस्तेमाल ना सिर्फ सेहत को फायदा पहुंचाता है बल्कि स्किन के लिए भी ये बेहद फायदेमंद है। तुलसी के गुणों की वजह से इसका इस्तेमाल ब्यूटी प्रोडक्ट में किया जाता है।

तुलसी का इस्तेमाल चेहरे पर उसका पैक बनाकर किया जा सकता है। तुलसी का पैक चेहरे को खूबसूरत बनाता है, साथ ही स्किन का ध्यान भी रखता है। तुलसी का पैक स्किन को मॉइस्चराइज़ भी करता है। आइए जानते है कि तुलसी के स्किन को कौन-कौन से फायदे पहुंचते हैं और इसका पैक घर में कैसे तैयार करें।

तुलसी का पैक स्किन को किसी भी तरह के नुकसान से बचाता है और स्किन की बेहतरीन तरीके से मरम्मत करता है। तुलसी में मौजूद एंटीबैक्टीरियल, एंटीसेप्टिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण स्किन को किसी भी तरह के संक्रमण से बचाते हैं। तुलसी का पैक ब्लड सर्कुलेशन को कंट्रोल करता है। यह क्षतिग्रस्त कोशिकाओं और ऊतकों की मरम्मत करके स्किन को पर्यावरण से होने वाले नुकसान से बचाता है।

स्किन पर बैक्टीरिया को पनपने से रोकता है, साथ ही मुहांसों से भी निजात दिलाता है। इस पैक का इस्तेमाल करने से स्किन की कई समस्याओं जैसे झुर्रियों, फाइन लाइन, काले धब्बों, मुंहासों के निशान से छुटकारा मिलता है। तुलसी नेचुरल ब्यूटी को बढ़ाती है और स्किन को कई तरह के संक्रमणों से बचाती है।

बदलते मौसम में ऑयल कंट्रोल करने के लिए तुलसी का पैक:

सामग्री

  1. बड़ा चम्मच तुलसी पाउडर।
  2. एक चम्मच मुल्तानी मिट्टी।
  3. एक चम्मच चंदन पाउडर।
  4. जैतून के तेल की चार बूंदें।
  5. पांच बूंद गुलाब जल।

एक बाउल लें और उसमें तुलसी का पाउडर, मुल्तानी मिट्टी,चंदन का पाउडर, जैतून का तेल और पांच बूंदे गुलाब जल की डालें। सारी सामग्री को बाउल में डालकर अच्छी तरह से मिक्स कर लें।

इस पेस्ट को बनाने के लिए आप उसमें कुछ बूंदें पानी की डालकर उसको चिकना बना सकते हैं। पेस्ट को अच्छे से मिक्स कर लें ताकि उसमें किसी तरह की गांठ नहीं रहे।

तैयार पेस्ट को अपने चेहरे और गर्दन पर समान रूप से लगाएं और उसे सूखने दें। लगभग 30 मिनट बाद चेहरे को वॉश कर लें। याद रखें कि चेहरा वॉश करने के लिए ठंडे पानी का प्रयोग करें।

तुलसी का पौधा घर में रखने के फायदे:

हवा को करेगा शुद्ध: इस पौधे को घर में रखने से हवा को शुद्ध करने में मदद मिलती है। माना जाता है कि तुलसी का पौधा हवा से जहरीले रसायनों को अवशोषित करता है और यह एक अच्छी सुगंध का उत्सर्जन करता है जो पर्यावरण को ताजा रखता है।नकारात्मक ऊर्जा को रोकता है: इसकी चिकित्सीय विशेषताओं के अलावा, तुलसी के पौधे तनाव को कम करने में सहायता करते हैं। घर में तुलसी का पौधा लगाने से नकारात्मक ऊर्जा का नाश होता है और सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है। यह दुर्भाग्य को घर में प्रवेश करने से रोकने के साथ-साथ स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने के लिए एक अच्छा उपचार है।

अक्सर जड़ी-बूटियों की रानी के रूप में जाना जाने वाले तुलसी के पौधे के कई चिकित्सीय लाभ हैं। यह आमतौर पर भारतीय घरों में पाया जाता है क्योंकि इसे हिंदुओं द्वारा पवित्र माना जाता है।तुलसी के पौधे का उपयोग सामान्य सर्दी, फ्लू और खांसी सहित कई प्रकार की मौसमी बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। वास्तु के अनुसार तुलसी का पौधा घर में रखने से परिवार में सुख-शांति बनी रहती है और आर्थिक समस्या से बचा जा सकता है।

समृद्धि लाने में सहायक: तुलसी का पौधा घर में सौभाग्य लाने और धन संबंधी समस्याओं से भी बचने वाला माना जाता है। परिवार की आर्थिक स्थिति के लिए तुलसी का पौधा लगाना लाभकारी होता है।परिवार की करता है सुरक्षा: घर में तुलसी के पौधे की उपस्थिति परिवार की सुरक्षा के लिए फायदेमंद होती है क्योंकि यह उन्हें बुरी नजर और काले जादू के अन्य रूपों से बचाती है।

पारिवारिक बंधन को मजबूत करें: घर में तुलसी का पौधा होना परिवार के लिए फायदेमंद होता है क्योंकि यह परिवार के सदस्यों के बीच के बंधन को मजबूत करता है और उन्हें एक-दूसरे की कंपनी का आनंद लेने की अनुमति देता है।

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों की न्यूज़ खबरी नहीं करता है. इनको केवल सुझाव के रूप में लें. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

RELATED ARTICLES