बवासीर का रामबाण इलाज आयुर्वेद के साथ बवासीर का घरेलू उपचार

बवासीर का रामबाण इलाज आयुर्वेद के साथ बवासीर का घरेलू उपचार

बवासीर का घरेलू उपचार

आजकल यह भारत में देखा जा रहा है कि अधिकतर लोगों को बवासीर जैसी बीमारी हो रही है आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है यदि यदि आप इसमें बताए गए उपाय को आप इस्तेमाल करेंगे तो आपकी बाबासीर जड़ से खत्म हो जाएगी।
बावसी दो प्रकार की होती है अंदर की और बहार की और बवासीर में मस्से अंदर को होते हैं गोल चपेट उभरे हुए मस्से चने-मसुर के दाने के बराबर भी होते हैं कब्ज लगातार रहने की वजह से जब अंदर का मस्सा शौच करते समय जोर लगाते हैं तो  बाहर आ जाता है तो मरीज दर्द से तड़प उठता है और अगर मस्से छिल जाए तो जख्म भी हो जाता है बाहर की बवासीर में मस्सा गुद्धा वाली जगह पर होते हैं इसमें दर्द नहीं होता कभी-कभी मीठी खराश या खुजली होती है कब्ज होने पर इससे इतना खून आने लगता है कि मरीज खून देखकर घबरा जाता है और चेहरा पीला पड़ जाता है
बवासीर का रामबाण इलाज आयुर्वेद के साथ बवासीर का घरेलू उपचार

बवासीर के लक्षण

बवासीर होने से मरीज का हाजमा खराब हो जाता है भूख नहीं लगती कब्ज रहने रखती है पेट में गैस जैसी समस्या उत्पन्न होने लगती है। जैसे दिल ,जिगर ,कमजोर हो जाता है और घबराहट होने लगती है आमतौर से शारीरिक कमजोरी भी हो जाती है मरीज के मुंह पर हल्की सूजन भी आ जाता है।
बवासीर का रामबाण इलाज आयुर्वेद के साथ बवासीर का घरेलू उपचार

बवासीर के उपाय

1. दो कागजी नींबू काटकर 5 माशे  से देशी कत्था पीसकर नींबू के टुकड़े पर लगाएं रात भर ओस मैं रखें सुबह खाली पेट रोजाना नियम से 15 दिन तक सेवन करें उड़द की दाल मांस मछली का परहेज करें बवासीर में निश्चित ही लाभ होगा आपको।

2. 50 ग्राम रीठे लेकर तवे पर रखकर कटोरी से ढक दें और तवे के नीचे आधा घंटे तक आग  जलाएं रीठे भम्म हो जाएंगे ठंडा होने पर कटोरी हटाकर बारीकी करके रीठे की भम्म 20 ग्राम , तथा कत्था सफेद 20 ग्राम , कुश्ता फौलाद 3 ग्राम, सब को बारीकी से अच्छे से मिला ले।वजन खुराक 1 ग्राम सुबह को, 1 ग्राम ,शाम को 20 ग्राम मक्खन में रखकर खाएं, ऊपर से ढाई सौ ग्राम दूध पिए, 10 से 15 दिन सेवन करें यह बहुत बढ़िया दवा है बादी बवासीर को दूर करेगी।

बवासीर में आपको क्या क्या परहेज करना है

1. गुड
2. गोश्त.
बवासीर का रामबाण इलाज आयुर्वेद के साथ बवासीर का घरेलू उपचार

3. शराब
4. आम
5. अंगूर ना खाएं कब्ज ना होने दें और नीचे लिखा मरहम मस्सों पर लगाए।

मरहम बाबासीर    वैसलीन सफेद 50 ग्राम , कपूर 6 ग्राम, सल्फरडाईजीन की 3 गोली, बोरिक एसिड 6 ग्राम सबको बारीकी से वैसलीन में मिलाकर रात को सोते समय लगा लेना है सुबह शौच जाने से पहले और दिन में 1 बार रोजाना उंगली के साथ अंदर बाहर के मस्सों पर लगाएं। ऐसा रोजाना करने से आपका बाबासीर जड़ से खत्म हो जाएगा और आपको हमेशा याद रखना है कि इसे रात  मैं ही सोते समय इस्तेमाल करना है।

बवासीर का रामबाण इलाज आयुर्वेद के साथ बवासीर का घरेलू उपचार
खूनी बवासीर  गैंदे के हरे पत्ते 10 ग्राम, काली मिर्च 5 दाने, कुंजा मिश्री 10 ग्राम, 60 ग्राम पानी में रगड़ कर और इसे अच्छे तरीके से छानकर 4 दिन तक एक एक बार पिए और आप गर्म चीज ना खाएं और ना ही कब्ज होने दे आप देखेंगे कि आपका  बवासीर खत्म हो गया है।

RELATED ARTICLES