भालू और लोमड़ी | Bhalu aur Lomdi | Bear and Fox

Bhalu-aur-Lomdi-Bear-and-Fox

                          भालू और लोमड़ी

एक बार एक भालू का पैर एक लोमड़ी के पैर पर पड़ गया। लोमड़ी बड़ी सयानी थी। वह चीख कर बोली, “हाय मैं मर गई। मेरा तो पैर ही टूट गया।”भालू सीधा- साधा था।लोमड़ी की चीख सुनकर वह घबरा गया। उसने कहा, “मुझे माफ कर दो। मैंने जान-बूझकर ऐसा नहीं किया। मुझे बहुत दुख है।”लोमड़ी ने कराहते हुए कहा, “अब पछताने से क्या होगा? मेरी तो टांग बेकार हो गई। अब मैं खाऊंगी कहां से?” “मेरे साथ चलो। जब तक तुम्हारा पैर ठीक नहीं होगा, मैं तुम्हारी सेवा करूंगा।”ऐसा कहकर भालू उसे अपने घर ले गया। भालू दिन-रात उसकी सेवा करता। उसके पैर पर पट्टी बांधता। पहले उसे खिलाता। फिर स्वयं खाता। उसे सुलाकर सोता।

Bhalu-aur-Lomdi-Bear-and-Fox

 दिन निकलते ही उससे पूछता, “अब तुम्हारी चोट कैसी है?”लोमड़ी उत्तर देती, “कल तो दर्द कुछ कम था, परंतु आज फिर बढ़ गया है।”भालू जब जंगल में जाता तो इधर लोमड़ी खूब उछल-कूद मचाती। वह प्रसन्न थी उसके दिन मजे से कट रहे थे। कुछ ही दिनों मे वह खूब मोटी हो गई। एक दिन उसने भालू से कहा, “तुम मुझे रोज अमरुद खिलाते हो।अमरूद खाते – खाते मेरे दांतो में दर्द होने लगा है। तुम मुझे अंगूर लाकर क्यों नहीं देते?”भालू उसी समय अंगूर लाने चला गया। रास्ते में उसे एक खरगोश मिला। खरगोश ने उससे पूछा, “भालू दादा, इतने परेशान क्यों हो?”भालू ने खरगोश को सारी बात बताई। खरगोश बहुत चतुर था। वह लोमड़ी की चालाकी समझ गया। उसने भालू को बताया, “लोमड़ी को अंगूर कि नहीं, डॉक्टर की जरूरत है।”

Bhalu-aur-Lomdi-Bear-and-Fox

 “डॉक्टर कहां मिलेगा?” भालू ने पूछा। मैं एक डॉक्टर को जानता हूं वह लोमड़ी की चोट का सही इलाज करेगा तुम मुझे लोमड़ी के पास ले चलो। खरगोश ने उत्तर दिया खरगोश को भालू के साथ आता देखकर लोमड़ी चौक गई। ‘कहीं यह मेरी पोल ना खोल दे। ‘यह सोचकर वह डर से कांपने लगी। खरगोश ने कहा, “लगता है, लोमड़ी को ठंड भी लग गई है। देखो, कैसे काप रही है। मैं अभी इसे कालू कुत्ते के पास ले जाऊंगा। वही इसका सही इलाज करेगा।”कालू कुत्ते का नाम सुनते ही लोमड़ी उछली और तेजी से भाग गई।

तो दोस्तों आप लोगों को हमारी यह कहानी कैसी लगी हमें आप कमेंट सेक्शन में जवाब दें और आपको यह कहानी अच्छी लगी तो आप अपने दोस्तों को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और आप हमारे अन्य पोस्ट भी जरूर पढ़ें धन्यवाद

RELATED ARTICLES