मन की बात में पीएम ने क्या बोला

मन की बात में पीएम ने क्या बोला

मन की बात में पीएम ने क्या बोला

मन की बात में मोदी जी ने कहा कि करोना के खिलाफ जीवन मृत्यु की लड़ाई है आपको ही परेशानियों के लिए मैं क्षमा मांगता हूं। और उन्होंने कहा कि करोना लोगों को खत्म करने की जिद पर अड़ा हुआ है परंतु हम ऐसा होने नहीं देंगे आप लोग मेरे मेरा साथ दे और एकजुट होकर इस करोना से लड़ें  और इसे खत्म कर दें। और उन्होंने कहा है कि कुछ लोग करोना के गंभीरता को नहीं समझ रहे हैं मैं उनसे यही कहना चाहूंगा कि इस गंभीरता को समझे और हम एकजुट होकर इस से मुकाबला करें। और उन्होंने कहा कि मुझे कुछ ऐसे फैसले लेने पड़े जिससे कि लोगों को परेशानियां भी हुई है।
मैं उन लोगों की परेशानियों को समझता हूं इसलिए मैंने ऐसा कठोर निर्णय लिया है मैं चाहता हूं कि सभी घर के लोगों को सुरक्षित रख सकूं। और उन्होंने कहा है कि मेरे देश के गरीब लोगों को भी इस परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है मैं उनसे हाथ जोड़कर क्षमा मांगता हूं मैं उनको विश्वास दिलाता हूं कि इस करोना वायरस से हम जल्दी ही मुक्त हो जाएंगे। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि इस वायरस को खत्म करने के लिए हमारे देश के साइंटिस्ट और डॉक्टर इसका तोड़ निकाल रहे हैं इसके लिए उन्हें कुछ समय चाहिए वे इस वायरस का तोड़ बहुत जल्दी निकाल लेंगे। आप लोगों से हाथ जोड़कर अपील करता हूं कि आप अपने घरों से बिल्कुल भी बाहर ना जाए। और आप लोग धैर्य दिखाएं और लोग डाउन का पालन करें यदि आप लोग धैर्य नहीं दिखाएंगे तो हम इस परेशानी को कभी खत्म नहीं कर पाएंगे और लॉक डाउन का होने के बावजूद भी लोग अपने घरों से बाहर जा रहे हैं मैं आपसे गुजारिश करता हूं कि आप अपने घरों में ही रहे और लॉक डाउन का पालन करें।

प्रधानमंत्री ने रामगम्पा तेजा से भी बात करी

प्रधानमंत्री जी ने उनसे पूछा कि आप करोना वायरस के गंभीर संकट से बाहर निकले हैं जरूर मैं आपसे कुछ बात करना चाहता था। बताइए आप इस संकट से बाहर निकले हैं तो आप अपना अनुभव बताइए कि आप किन किन परिस्थितियों का सामना किया है। रामगम्पा तेजा ने कहा कि मैं आईटी सेक्टर का एंप्लोई हूं।उन्होंने कहा कि मैं काम की वजह से दुबई गया हुआ था जब मैं वहां से वापस आया तू मुझे बुखार खांसी जुखाम आदि परेशानी होने लगी फिर मैं डॉक्टर के पास गया तो उन्होंने चेकअप किया तो बताया कि आपको करोना वायरस हुआ है फिर उन्होंने मुझे वहीं पर भर्ती कर लिया और 14 से 15 दिनों मैं ठीक हो गया और मैं अपने घर वापस आ गया मैं उन डॉक्टरों को तहे दिल से धन्यवाद कहना चाहता हूं कि उन्होंने मेरी इस परेशानी को दूर किया।

मन की बात में पीएम ने क्या बोला

प्रधानमंत्री ने डॉक्टर से भी बात करी

प्रधानमंत्री ने कुछ डॉक्टरों से भी बात करी और उन्होंने कहा कि आप इस परिस्थितियों को संभाल रहे हैंऔर मरीजों की अच्छी तरीके से सेवा कर रहे हैं जिसके कारण वह 14 से 15  दिनों में ही ठीक हो जा रहे हैं और वह अपने घर जा पा रहे हैं आपको मैं तहे दिल से शुक्रिया कहना चाहता हूं।

मन की बात में पीएम ने क्या बोला

पुणे के अस्पताल में 20 मरीज ठीक हो कर घर गए

पुणे के एक डॉक्टर ने बताया कि इस अस्पताल में 20 संक्रमित लोग आए थे जिनमें से की 16 मरीज बिल्कुल ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं अभी 4 मरीज की काउंसलिंग कर रहे हैं हमारा मानना है कि यह कम से कम 4 से 5 दिन में इनकी हालत ठीक हो जाएंगी और यह अपने  घर बिल्कुल ठीक होकर चले जाएंगे और उन्होंने कहा है कि हमारे देश में लोग डाउन हुआ है जिसके कारण पुणे में मरीजों की संख्या कम होती जा रही है हमें विश्वास है कि हम इस जंग में जरूर जीतेंगे आप लोगों से एक ही गुजारिश है कि आप अपने हाथों को बार-बार धोए और अपने घर से बाहर बिल्कुल ना जाएं।
मन की बात में पीएम ने क्या बोला

प्रधानमंत्री जी ने कहा की संकट में फंसे लोगों की मदद करें

प्रधानमंत्री जी ने कहा कि संकट में फंसे लोगों की मदद करनी है यदि कोई व्यक्ति भूखा सोता है तो आपको उसे खाना खिलाएं जिसके कारण की वह व्यक्ति भूखा ना सोए और हमेशा जरूरतमंदों की सहायता करें आप लोगों को शुक्रिया कहता हूं कि आप इसी तरह से  जरूरतमंदों को सहायता करे आप सभी को मेरी शुभकामनाएं।

प्रधानमंत्री से लोगों ने क्या पूछा

प्रधानमंत्री से लोगों ने पूछा कि आप अपने समय को व्यथित कैसे कर रहे हैं  तो उन्होंने बताया कि मैं फिटनेस ट्रेनर तो नहीं हूं परंतु मैं योगा करता हूं जिसके कारण मुझे फायदा होता है यदि आप लोगडॉन के दौरान आप भी कर सकते हैं जिससे कि आपको फायदा हो लॉकडाउन के दौरान यदि कोई गरीब या संकट में हो तो हमें उसकी मदद करनी है और उन्होंने कहा कि मदद के लिए हमें सारी दीवारें तोड़ देनी है इसलिए आप सभी लोग घर पर रहें और सुरक्षित रहें आप सभी को मेरी और से शुभकामनाएं।
RELATED ARTICLES