महिलाएं के प्राइवेट पार्ट में सूजन कब और किन कारणों से आती है, Swelling in private part of women

महिलाएं के प्राइवेट पार्ट में सूजन कब और किन कारणों से आती है? जानिए कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

swelling-in-private-part-of-women

महिला के शरीर का सबसे नाजुक अंग योनि होता है और इस हिस्से की साफ-सफाई रखना भी उतना ही जरूरी है, लेकिन भारत में कई महिलाएं अभी भी प्राइवेट पार्ट की सफाई को लेकर इतनी जागरूक नहीं हैं, नतीजा यह होता है कि इंफेक्शन जैसी कई समस्याएं होने लगती हैं। 

इन कारणों से कभी-कभी योनि में सूजन आ जाती है। कई महिलाओं को सूजन की समस्या होती है और यह एक बहुत ही सामान्य समस्या है और कई बार महिलाओं को योनी में सूजन की शिकायत जरूर होती है। योनि की इस सूजन को योनिशोथ भी कहा जाता है। जब सूजन होती है तो उसके साथ योनि में खुजली और दर्द भी होता है, लेकिन अगर योनि में बार-बार यह सूजन हो रही हो तो इसके पीछे ये मुख्य कारण हो सकते हैं।

यह संक्रमण उन महिलाओं में अधिक होता है जो अक्सर यौन क्रिया में सक्रिय रहती हैं। ज्यादा एंटीबायोटिक्स लेने से भी इन बैक्टीरिया की ग्रोथ बढ़ जाती है, जिससे इंफेक्शन बढ़ जाता है। इसके अलावा, गर्भावस्था के दौरान हार्मोनल परिवर्तन, मधुमेह और परेशान एस्ट्रोजन के स्तर के कारण भी सूजन होती है। जब सूजन होती है तो योनि और योनी के आसपास खुजली, जलन और सूजन हो जाती है। योनी के आसपास दर्द होता है, 

संभोग के दौरान दर्द होता है।

बार-बार पेशाब आना और दर्द और जलन।

योनि में निर्वहन।

योनि में यीस्ट संक्रमण

योनि में यीस्ट संक्रमण कैंडिडा नामक कवक प्रजाति के कारण होने वाली सबसे आम समस्या है। वैसे तो आपकी योनि में कैंडिडा प्राकृतिक रूप से मौजूद होता है लेकिन कम संख्या में लेकिन जब इनकी संख्या बढ़ जाती है तो ये योनि में संक्रमण का कारण बन जाते हैं।

योनि में जीवाणु संक्रमण

swelling-in-private-part-of-women

एक महिला के जननांगों पर स्वस्थ प्रकार के बैक्टीरिया होते हैं, जिससे कोई समस्या नहीं होती है, लेकिन कई बार कई कारणों से खराब बैक्टीरिया की संख्या बढ़ जाती है और आपको प्राइवेट पार्ट में बैक्टीरिया का संक्रमण हो जाता है। खुजली, जलन, सूजन और दुर्गंधयुक्त स्राव इसके लक्षण हैं।

एस्ट्रोजन की कमी के कारण

यीस्ट और बैक्टीरियल इन्फेक्शन आम हैं और सही इलाज से ये जल्दी ठीक हो जाते हैं, लेकिन कई बार महिला के शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन की कमी के कारण भी योनि में सूजन आ जाती है। इसे वैजाइनल एट्रोफी भी कहा जाता है, जिसमें योनि में खुजली और असामान्य डिस्चार्ज होता है। ब्रेस्टफीडिंग, मेनोपॉज, ओवरी में चोट लगना या ओवरी को हटाना भी एस्ट्रोजन के स्तर में कमी का कारण बन सकता है, जिसके कारण महिलाओं में यह समस्या हो सकती है। 

योनि में ट्राइकोमोनिएसिस संक्रमण

यह संक्रमण संभोग से फैलने वाला संक्रमण है। यह संभोग के दौरान एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में स्थानांतरित हो जाता है। इससे महिलाओं को अक्सर योनि में खुजली और अन्य लक्षणों की शिकायत होती है।

यह हूपर्स (HSV) द्वारा फैलता है, जिसमें योनि के चारों ओर दाने और घाव बन जाते हैं और इसमें रोगी को जलन, दर्द और तेज खुजली होती है। गैर-संक्रामक योनिशोथ योनि स्प्रे, डूश, सुगंधित साबुन, सुगंधित डिटर्जेंट और शुक्राणुनाशक उत्पादों से एलर्जी हो सकती है।

तो अब आप जान ही गए होंगे कि योनि में सूजन आने के क्या कारण हो सकते हैं, लेकिन साफ-सफाई रखने के बावजूद भी ऐसी समस्याएं आ रही हैं, तो बिना देर किए स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें।

Disclaimer : इसमें दी गई जानकारी आपको सुझाव के रूप में बताया गया है।

RELATED ARTICLES