शेर और खरगोश की कहानी

शेर और खरगोश की कहानी

                        शेर और खरगोश
✶✶✶किसी जंगल में एक शेर रहता था| शेर कई दिनों से भूखा था| जब वह अपनी गुफा से शिकार करने निकल रहा था तो उसने देखा कि एक खरगोश उसकी गुफा के करीब ही खेल रहा है| शेर जैसे ही उस पर झपटने वाला था, सामने एक हिरन दिखाई दिया| शेर ने सोचा खरगोश तो बहुत छोटा है, पेट भी पूरा नहीं भरेगा हिरन काफी बड़ा है और बहुत स्वादिष्ट भी होता है उसी को मारना चाहिए| अत वह शेर खरगोश को छोड़ कर उस हिरन के पीछे दौड़ पड़ा| लेकिन वह हिरन शेर को देख कर, बहुत तेज दौड़ने लगा और जल्दी ही वह शेर की आँखों से ओझल हो गया|

शेर और खरगोश की कहानी
✶✶✶शेर ने हिरन को तेज दौड़ते हुए देखा तो वह सोचने लगा कि वह अब हिरन को नहीं पकड़ सकेगा| हिरन के आँखों से ओझल होते ही शेर पूरा भोजन पाने की आशा छोड़ बैठा| उसने मन ही मन निश्चय किया कि हिरन का पीछा करना अब बेकार है क्योंकि वह बहुत दूर चला गया है| मुझे खरगोश के पास ही लौट जाना चाहिए| उसको खाने से मेरा कुछ तो पेट भरेगा| किन्तु वह जब लौट कर वापस अपनी गुफा के पास पहुंचा तो वहां खरगोश को न पाकर वह आश्चर्य में पड़ गया| वह सोचने लगा मैं तो खरगोश को यहीं छोड़ गया था? फिर यह खरगोश कहाँ चला गया? जरुर यही कहीं छिपा होगा| मैं अभी उसको तलाश करता हूँ|वे इधर-उधर ढूंढने लगा परंतु उसे कुछ नहीं मिला।

शेर और खरगोश की कहानी

✶✶✶फिर उसने सोचा कि वह मुझसे बच कर कहाँ जा सकता है? यह सोच कर वह शेर उस खगोश की तलाश करने लगा| उसने गुफा के अन्दर देखा, गुफा के बाहर देखा मगर उसे कहीं भी वह खरगोश नज़र नहीं आया|वह बहुत ज्यादा परेशान होने लगा क्योंकि खरगोश तो शेर के वहां से जाते ही रफूचक्कर हो गया था| खरगोश को वहां न पाकर शेर बड़ा हताश हुआ और चिंतित में पड़ गया| हिरन और खरगोश दोनों ही उसका भोजन बनने से बच गए थे| शेर हिरन का ध्यान लगाकर सोचने लगा जब मैंने उसे देखा था तो सोचा था, हिरन खरगोश से बड़ा है इसलिए उसको खाकर मेरा पेट भर जाएगा| खरगोश तो बहुत छोटा है-उसको खाकर मेरा पेट भी नहीं भर सकता| अत मैं खरगोश को छोड़ कर हिरन का शिकार करने के लिए उसके पीछे दौड़ पड़ा| लेकिन दुर्भाग्य कि वह हिरन मेरे हाथ नहीं आया और तेजी से भाग गया| अपने दोनों शिकार हाथ से निकल जाने के कारण शेर बड़ा पछताया और बोला,मैंने थोडा छोड़ कर ज्यादा पाने के लालच में अपना सबकुछ खो दिया| मैं न थोडा पा सका न ज्यादा| इस लिए कहते हैं कि ज्यादा पाने के लालच में थोड़े से भी हाथ धोना पड़ जाता है।।

शिक्षा:- इस कहानी से हमें बच्चों यह शिक्षा मिलती है कि ज्यादा पाने के लालच में थोड़े से भी हाथ धोना पड़ जाता है।

।धन्यवाद।

यदि आपको यह कहानी अच्छी लगी तो आप अपने दोस्तों के साथ इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और हमारे अन्य पोस्ट भी पढ़ जरूर।
RELATED ARTICLES