घमंडी हाथी और चिड़िया की कहानी। The story of the arrogant elephant and the bird

                             घमंडी हाथी

एक काले जामुन के पेड़ पर चिड़ियों की जोड़ी रहती थी उन्होंने पेड़ पर एक घोंसला बनाया था और वे बड़ी खुशी से रहते थे। कुछ दिनों बाद चिड़िया ने अंडे डालें अंडो से वह बड़े खुश हो गए और बड़ी बेसब्री से अपने बच्चों के आने का इंतजार करने लगे। एक दिन एक बड़ा हाथी घूमते घूमते उस जामुन के पेड़ के पास आया। उसे वे पत्ते बहुत पसंद थे। उस पेड़ की डाली खींचने के लिए हाथी ने अपनी सुडं ऊंची उठाई यह देख कर चिड़ियों की जोड़ी जोर से चिल्लाने लगी। ओ हाथी महाराज। हम पर दया कीजिए। इस डाली को मत खींचिए। हमारा घोंसला यहां पर है। 

उसमें हमारे अंडे भी है। हम बच्चों का बड़े बेसबरीसे से इंतजार कर रहे हैं अगर आप इस पेड़ को हिलाओगे‌ तो हमारा हौसला गिर जायेगा। सब अंडे फूट जायेंगे। हमपर,हमपर दया करो हाथी महाराज घमंडी हाथी ने उनकी परवाह नहीं की? मुझे क्या लेना देना तुम्हारे अंडों से। मुझे परवाह नहीं मुझे तो बस खाना है यह कहकर हाथी ने डाली खींची और फिर जैसा सोचा वैसा ही हुआ घोंसला नीचे गिर गया और सारे अंडे टूट गए चिड़ियों को बहुत ही दुख हुआ।वे खूब रोए। घमंडी हाथी पत्ते खाकर वहां से निकल गया। चिड़ियों की जोड़ी को अब बहुत गुस्सा आया उन्होंने बदला लेने का फैसला किया वह रोते-रोते अपने मित्रों के पास सहायता मांगने निकल पड़े।

 उस घमंडी हाथी ने हमारे अंडूको तोड़ दिया। हूं हूं हूं । उनका रोना सुनकर कौआ, मेंढक, चींटी सभी उस जोड़ी को दिलासा देने लगे कौआ ने समझाया………रोना मत। उस घमंडी हाथी को अच्छा सबक सिखाएंगे सभी मिलकर उस घमंडी हाथी को सबक सिखाने की तरकीब सोचने लगे दूसरे दिन चिड़िया और उनके मित्र उस हाथी की खोज में निकल पड़े। उन्होंने पूरा जंगल छान मारा हाथी को देखते ही उन्होंने हमला बोल दिया चींटी ने हाथी के कान में घुसकर कुरेदना शुरू किया। लगातार कुरेदना के कारण हाथी चक्कर खाकर गिर पड़ा अब कौवा की बारी थी वह पेड़ की डाली से तेजी से उड़ कर नीचे आये। हाथी की दोनों आंखें अपनी चोंच से मार-मार कर फोड़ डाली और उसे अंधा बना दिया।


इस अचानक हमले से हाथी घबरा गया। दर्द के मारे वह चिल्लाने लगा उसका गला सूख गया अपने अंधे आंखों से व पानी के लिए तालाब की ओर दौड़ने लगा अब मेंढक आगे बढ़ा मेंढक एक बड़े से गड्ढे के पास बैठकर जोर से चिल्लाने लगा मेंढक की आवाज सुनकर हाथी ने अंदाजा लगाया कि तालाब वही पास में होगा हाथी उस आवाज की दिशा में जाने लगा और अगले ही क्षण हाथी गड्ढे में गिर कर मर गया चिड़ियों की जोड़ी ने अपने दोस्तों की सहायता से उस घमंडी हाथी से बदला ले लिया। होशियारी और साहस ताकत से महत्वपूर्ण है।

एकता में बल

तो बच्चों आप लोगों को हमारी एक कहानी कैसी लगी हमें आप कमेंट सेक्शन में जवाब दें और आपको यह कहानी अच्छी लगी तो आप अपने दोस्तों को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और आप हमारे अन्य पोस्ट भी जरूर पढ़ें धन्यवाद।

Previous Post Next Post